Login| stateportal_assist@rediffmail.com|IP Phone : 12269|A+| A | A-|हिन्दी

Last Updated on 24 October 2019

As per UIDAI,none of the Aadhar related data can be shown on public platform.

To view the updated content please clear the cache on daily basis.

No Image

Department Last Updated on 24 October 2019

राज्य में उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास के स्तर को शिखर तक ले जाने के लिए झारखण्ड राज्य सरकार कृत संकल्पित है। राज्य में उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास के प्रति अपने इस सकंल्प को मूर्त रूप देने के उदेश्य से ही राज्य सरकार ने उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग की स्थापना की है। अन्य विभाग के रूप में कार्य कर रहे उच्च एवं तकनीकी शिक्षा विभाग तथा झारखण्ड कौशल विकास मिशन को समाहित करते हुए उच्च, तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग की स्थापना की गयी।

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

राज्य सरकार ने उच्च शिक्षा के विकास पर विशेष बल दिया है। विगत चार वर्षों में कई नई योजनाए एवं कार्यक्रमों को आरम्भ किया गया है। विगत चार वर्षों में प्राप्त की गई उपलब्धियाँ निःसंदेह बहुत उत्साहवर्द्धक है। वर्तमान में झारखण्ड राज्य का सकल नामांकन अनुपात 8.0 है। वर्ष 2022 तक उच्च शिक्षा के क्षेत्र में हम पहुँच, समानता एवं गुणवत्ता के दृष्टिकोण से राष्ट्रीय मानक स्तर को प्राप्त कर सकेंगे।

राज्य में उच्च शिक्षा की संक्षेप में वर्तमान स्थिति निम्नवत् है -

 

Kind of Institute

No

1

Central University

01

2

National University of Study and Research In Law (NUSRL)

01

3

State University

09

4

Agriculture University

01

5

Private University

15

6

Deemed University

02

7

Constituent Colleges

63

8

Minority Colleges

08

9

IIM Ranchi

01

10

Permanent Affiliated Colleges

66

11

Sanskrit Colleges

06

12

B.Ed. College

131

13

Private Aided Higher Colleges

104

 

राज्य सरकार ने सरकार के स्तर पर एवं निजी जन भागीदारी के माध्यम से नये विश्वविद्यालयों/महाविद्यालयों की स्थापना करने की सार्थक पहल की है। राज्य में उच्च शिक्षा के क्षेत्र में कई समस्याए एवं चुनौतियाँ है जैसे, कम सकल नामांकन अनुपात, राष्ट्रीय स्तर के मुकाबले उच्च शिक्षण संस्थानों की बहुत कम संख्या, विशिष्ट शिक्षा प्रदान करने वाले शिक्षण संस्थानों की कमी, शहरी एवं ग्रामीण असमानताए, उपलब्ध उच्च शिक्षण संस्थानों में आधारभूत संरचनाओं का विकास, उपलब्ध संस्थानों का क्षमता विकास, पुराने पाठ्यक्रमों में संशोधन, रोजगारपरक शिक्षा का अभाव, लिंगानुपात में सुधार, शोध एवं विकास के क्षेत्र में नगण्य कार्य, शिक्षकों एवं शिक्षकेत्तर कर्मचारियों की कमी, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा आदि। उक्त समस्याओं का समाधान एवं चुनौतियों का सामना करते हुए उच्च शिक्षा के क्षेत्र में हम राष्ट्रीय मानक स्तर को प्राप्त करने के लिए प्रयासरत है।

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

राज्य सरकार द्वारा तकनीकी शिक्षा उपलब्ध कराने, इसकी गुणवत्ता में बढ़ोतरी करने एवं इसके स्तर में सुधार लाने का अभियान प्रारम्भ किया गया है। प्रतिवर्ष तकनीकी शिक्षण संस्थानों में लगभग 16000 सीट अभियंत्रण एवं डिप्लोमा के विभिन्न शाखाओं में तकनीकी शिक्षा हेतु उपलब्ध है। वर्तमान में कुल 15 अभियंत्रण महाविद्यालय एवं 42 डिप्लोमा स्तरीय तकनीकी संस्थान कार्यरत है।

पोलिटेकनिक संस्थानों का सुदृढ़ीकरण एवं आधुनिकीकरण की कई योजनाए शुरू की गयी है, जैसे प्रयोगशालाओं का स्तरोनयन, कम्प्युटर सेन्टर की स्थापना पुस्तकालयों का समृद्धिकरण, कार्यशालाओं का आयोजन, वर्तमानसमय की आवश्यकताओं को ध्यान में रखते हुए संशोधित एवं परिमार्जित पाठ्यक्रमों को लागू किया गया है।

राज्य के राजकीय तकनीकी संस्थानों में छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करने के लिए आधुनिक तकनीक से पठन-पाठन का कार्य प्रारम्भ किया जाना है। इन संस्थानों में भरचुवल क्लास/लैबोरैटरी स्थापित करने हेतु इनके आधारभूत संरचनाओं का विकास किया जाएगा ताकि इन तकनीकी संस्थानों में शिक्षकों एवं तकनीकी सहायता कर्मियों की कमी पूरी हो सके। सभी तकनीकी संस्थानों में ई-लर्निंग की सामग्री मुहैया करायी जायेगी। आई0सी0टी0 विकास के तहत ऑन लाईन नामांकन, परीक्षा, परीक्षाफल का प्रकाशन, प्रमाण-पत्र भुगतान आदि की व्यवस्था की जा रही है। ऑन लाईन पारस्परिक शिक्षण सुविधा की भी व्यवस्था की जा रही है। सूचना तकनीक को उन्नत करते हुए सभी संस्थानों एवं उसके परिसर में वाई-फाई की व्यवस्था की जानी है। 

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

Jharkhand Skill Development Mission Society (“JSDMS”) was registered on 1 October, 2013 under the Societies Registration Act, 1860 to function as a non-profit autonomous organization under Department of Planning and Development, Government of Jharkhand. Through a Government of Jharkhand notification dated August 11, 2016 JSDMS was made an autonomous body under Department of Higher, Technical Education & Skill Development, Government of Jharkhand. Constituted under the chairmanship of Honorable Chief Minister, JSDMS is managed by the Governing Body (GB) headed by the Development Commissioner. The Executive Committee (EC) of the Society is headed by the Principal Secretary / Secretary, Department of Higher, Technical Education and Skill Development.

 

Visit Official Website

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

राज्य के सभी पोलिटेकनिक एवं अभियंत्रण महाविद्यालयों को एक छत के नीचे लाने तथा तकनीकी शिक्षण संस्थानों की गुणवता एवं संख्या में सुधार के उद्देश्य से झारखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय की स्थापना की गई एवं वित्तीय वर्ष 2018-19 से इसका संचालन प्रारंभ किया गया है। पूर्व से कार्यरत राज्य प्रावैधिक शिक्षा पर्षद (SBTE), राँची के सभी कार्य यथा पोलिटेकनिक के छात्रों के परीक्षा का आयोजन, परीक्षाफल का प्रकाशन एवं डिप्लोमा प्रदान करने का कार्य भी इसी विश्वविद्यालय द्वारा किया जा रहा है। 2018-19 के शैक्षणिक सत्र से विभागान्तर्गत तकनीकी शिक्षण संस्थानों में नामांकित छात्रों का निबंधन एवं तकनीकी शिक्षण संस्थानों का सम्बंधन के कार्य भी अब झारखण्ड प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, राँची से हो रहा है। Visit Official Website or SBTE Web Site

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

राज्य में विज्ञान एवं प्रावैधिकी को बढ़ावा देने के उदेश्य से झारखण्ड विज्ञान एवं प्रावैधिकी परिषद् कार्यरत है। राँची के चिरौंदी में एक साईस सेन्टर एवं तारामंडल (बैठने की क्षमता-160) संचालित किया जा रहा हैं। इसी प्रकार का एक अन्य तारामण्डल दुमका में निर्माणाधीन है। देवघर में भी एक मिनी-तारामंडल का निर्माण कार्य आरम्भ किया गया है।

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

यह एक केन्द्र प्रायोजित योजना है। इस योजना का उद्देश्य उच्च शिक्षा के क्षेत्र में पहुंच, निष्पक्षीय समानता एवं गुणवत्ता स्थापित करना है। यह योजना मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार एवं राज्य सरकार द्वारा 60: 40 की हिस्सेदारी से संचालित है।

राज्य उच्च शिक्षा परिषद इस योजना के क्रियान्वयन हेतु मुख्य एजेन्सी का कार्य करती है, जो विश्वविद्यालय एवं विभाग के मघ्य उपलब्ध संसाधनो के समुचित एवं सार्थक उपयोग सुनिश्चित करती है।

Visit Official Website

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS

Jharkhand Combined Entrance Competitive Examination Board was constituted under Section 85 of Bihar Re-Constituted Act, 2000 by the Govt. vide Memo No. 374 dated 29.03.2001. The Government of Jharkhand has assigned the responsibility of conducting entrance tests for admission into various Institutions in the state. J.C.E.C.E.B. presently organizes the entrance exam /counselling annually for various professional courses like BE, Diploma, Medical, ITI, Para Medical etc.

Visit Official Website

Tenders, Corrigendum & Schemes

News & Headlines

No Image
Principal Secretary
Sri Shailesh Kumar Singh, IAS
Swachh Bharat RTI UMANG MEITY Digital India India Code India Gov Jharkhand TV My Gov NEVA Aadhar CM Dashboard Swachh Bharat RTI UMANG MEITY Digital India India Code India Gov Jharkhand TV My Gov NEVA Aadhar CM Dashboard Swachh Bharat RTI UMANG MEITY Digital India India Code India Gov Jharkhand TV My Gov NEVA Aadhar CM Dashboard Swachh Bharat RTI UMANG MEITY Digital India India Code India Gov Jharkhand TV My Gov NEVA Aadhar CM Dashboard Swachh Bharat RTI UMANG MEITY Digital India India Code India Gov Jharkhand TV My Gov NEVA Aadhar CM Dashboard